मेरा आँगन

मेरा आँगन

Wednesday, November 14, 2007

आमंत्रण

बालोपयोगी रचनाएँ आमंत्रित हैं। ई- मेल द्वारा कृतिदेव या यूनिकोड में रचनाएँ भेजे।मानदेय की व्यवस्था नहीं है।
रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' rdkamboj@gmail.com

2 comments:

सुभाष नीरव said...

भाई काम्बोज जी, बच्चों के लिए आपने यह ब्लाग आरंभ करके सचमुच एक प्रशंसनीय कार्य किया है। आज नेट पर हिंदी ब्लागों की तो बहुत भरमार है, परन्तु उपयोगी और सार्थक ब्लाग गिने-चुने ही हैं। ब्लागों पर बच्चों का जो कोना छूटा हुआ था, उसे आपने "पतंग" के माध्यम से भर कर नि:संदेह एक सराहनीय कार्य किया है। भाई सुकेश साहनी की बाल कहानियां, अलका सिन्हा की बाल कविताएं और आपकी रचनाएं इस पतंग को ऊंचाइयों तक पहुंचाती हैं। मेरी शुभकामनाएं कि यह पतंग और ऊंची उठकर आकाश में लहराती रहे।

संवेदन said...

हौसला अफ़्ज़ाई का शुक्रिया !मुझे आपके शब्दों से बल मिला आभार !
काम्बोज