मेरा आँगन

मेरा आँगन

Friday, June 7, 2013

हार्दिक शुभ कामनाएँ-5 जून-6 जून

शान्तनु काम्बोज
शान्तनु काम्बोज और तरुणा काम्बोज
"उपवन के प्यारे पुष्पों को
           खिलती खूब बहार मिले ,
सुन्दर सरस मधुर हो जीवन
           स्नेहपूर्ण व्यवहार मिले |
नयी मंजिलें ,शिखर नए हों
           नित नित हो आगे बढ़ना
पग पग पर पथ सरल हो इतना
           कठिनाई को हार मिले.......
प्रिय शान्तनु(नन्हा हाइकु)और
सुशान्त काम्बोज,( बैठे मयंक , मिहिर)
उसके माता-पिता जी ..
व परिवारी जन को 
जन्म दिवस पर 
हार्दिक शुभ कामनाओं के साथ ...:))

डॉ ज्योत्स्ना शर्मा

13 comments:

shashi purwar said...

dher sari hardik shubhkamnaye ..... asshish .sabhi khushiyan aapke daman me ho shantanu .ssneh

Sunita Agarwal said...

janm din i subhkamnaye :)

Rachana said...

प्रभु की कृपा
अपनों का आशीष
मिले सदा ही
जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें सदा खुश रहो
आंटी
रचना

haiku lok said...

Janam din ki shubhkamnaye !
har din aisee hi khushiyan lekar aaye !

ज्योति-कलश said...

जन्म दिवस के सुअवसर पर बहुत शुभ कामनाओं ....और ...केक की प्रतीक्षा के साथ ..:)

ज्योत्स्ना शर्मा

Manju Mishra said...

आँखों के तारे प्यारे शांतनु जी की मुस्कान यूँ ही जग-मग जग-मग होती रहे, घर-परिवार में यूँ ही खुशियों के फूल खिलाती रहे ... जन्मदिन के शुभ अवसर पर ढेरों शुभकामनायें एवं आशीष

Pushpa Mehra said...

usha ke mandap ke neeche
vaibhav - harsh- ullaas bhare
tum nav bahar ke nutan suman
maat-pita ke shaishav ke tum moort roop-
tum mein hi to chhipe hue hain
yovan - vikas ke har ek charan

chiranjeev shantanu kamboj ke janamdin
par uske madhurim jivan ki shub kamanaon sahit

pushpa mehra

Pushpa Mehra said...

usha ke mandap ke neeche
viabhav-harsh -ullaas bhare
tum nav bahar ke nutan suman
mata-pita ke shiashav ke tum murt-roop
tum mein hi to chhipe hue hain
yovan vikas ke har ek charan

chiranjeev shantanu kamboj ke janam divas par shubh kaamanaon sahit

pushpa mehra

Krishna Verma said...

आजीवन दें
खुशियाँ यों दस्तक
तुम्हारे द्वार।
प्रिय शान्तनु जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं एवं आशीष।

Manju Gupta said...

नन्हा - सा , प्यारा - सा शान्तनु

जन्मदिन की बधाई आपको

सूरज बन धरा पर चमको

गुलाब - से जगत में महको .

अनंत शुभकामनाओं के साथ

मंजू गुप्ता

sushila said...

लखनऊ और आगरा से 3 दिन के बाद कल रात को ही लौटी हूँ इसलिए नन्हे हाइकु, शान्तनु को देर से स्नेह, शुभकामनाएँ और अशेष आशीर्वाद प्रेषित कर रही हूँ।
नन्हा हाइकु तांका और चोका से आगे स्वयं अपनी निराली और गर्वित पहचान बने यही दुआ है । आमीन !

सहज साहित्य said...

आप सबका स्नेह इस नाव पुष्प का सबसे बड़ा सम्बल है । काम्बोज परिवार इस मधुरिम भाव के लि ए आप सबका अनुगृहीत है। अपना आशीर्वाद इसी तरह बनाए रखिएगा !! रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

KAHI UNKAHI said...

इधर नेट ज़रा कम चला पाने के कारण देर से देखी ये पोस्ट...पर नन्हे से...शरारती शान्तनु को बहुत सारा प्यार और आशीर्वाद...|

प्रियंका