मेरा आँगन

मेरा आँगन

Thursday, November 3, 2011

मेरे खोए हुए हीरे

किसी के हीरे खो जाएँ तो कितना दु:ख होगा! और अगर मिल जाएँ तो कितनी खुशी होगी! धरती जितने बड़े आँचल में भी नहीं समाएगी! आँसू भी उमड आएँगे । मेरे दो जुड़वा छात्र आयुश्री और अनिरुद्ध, जिनका कभी 1994 में कक्षा एक में प्रवेश हुआ था , छह साल मेरे सम्पर्क में रहे । उसके बाद बिछुड़ गए आज चीन में पढ़ाई कर रहे हैं । इनका पत्र दे रहा हूं                                                                                                      -namashkar sir...aapko itne dino baad pakar badi hi khushi huyi......mujhe bilkul vishawas hi nahi ho pa raha hai ki aapko aakhirkar itni mahnat k baad maine dhoond hi liya..wo bhi ek sociel networking site par.....aapko main yaad hu ye sochkar man ko badi hi shanti mili....kyuki meri jaisi chhatra aapko anginat baar mili hongi par aapke jaisa sikshak mujhe jeevan me kahi nahi mila.....mere bachpan ko sunhara banane me aap logo ki bahut yaadein judi huyi hai...
k.v.chirimiri k purane teachers jab bhi yaad aate hai to jaise aankho me paani bhar aata hai....kuch dino pahle Moghe madam ko pakar bhi meri yahi dasha huyi thi
main aapko yakeen nahi dila sakti ki main aaj kitni khush hu.... i am very very happy sir
maine aapki kavitao ki kitabo ko aaj bhi sanjokar rakha hai....
main abhi china me hu...apni medical ki parayi poori kar rahi hu..
aakhiri saal chal raha hai....aniruddh bhi mere sath yahi hai....
hum sath me parh rahe hai.....papaji hume 2 saal pahle hi chhorkar ishwar k paas chale gaye hai....par unke sankalp, mummy ki kathor mehnat aur aap sabhi k aashirwad ki wajah se humlog itne aage tak pahuch sake hai....yakeen mainiye aapke jane k baad humlogo ne aapka contact no. dhoondne ki bahut koshish ki par aap nahi mile....par aaj bhagwanji ki daya se aap mil hi gaye....apna contact no. plz send kar dijiyega...mujhe bahut khushi hogi....

8 comments:

KAHI UNKAHI said...

आज यह पढ़ कर मुझे भी अपनी कुछ बहुत आदरणीय और प्यारी शिक्षिकाओं की पुनः याद आ गई जिन्हें हम सच में बहुत ‘मिस’ करते हैं...। अपने खुद के जीवन के अलावा इस पत्र को पढ़ कर यह बात तो बिल्कुल ग़लत साबित हो जाती है कि आज की पीढ़ी शिक्षकों का सम्मान नहीं करती...। यह संस्कारों की बात है। जिसके संस्कार अच्छे होंगे वह कभी सपने में भी अपने माता-पिता व गुरू के प्रति असम्मान नहीं रख सकता ।
अपने हीरे जैसे दोनो छात्रों को फिर से पाने पर आपको बधाई...और उन दोनो को भी उनके उज्जवल भविष्य के लिए ढेरों शुभकामनाएँ...।

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

क्या बात है,बहुत बढिया।

Rama said...

आदरणीय हिमांशु जी ,
आपकी छात्रा का स्नेह भरा पत्र पढ़कर बहुत खुशी हुई ...बच्चे कितने सच्चे और प्यारे होते है यह पत्र बाखूबी दर्शाता है यही तो सच्चे शिक्षक की पूंजी होती है .....जिस छात्रा ने आपको यह पत्र लिखा है उसको मेरी ढेर सारी शुभकामनाएं व आशीष .....सादर ....
डा. रमा द्विवेदी

मेरा साहित्य said...

bhaiya me aapki prasannata samjh sakti hoon .itna smman jo aapko mil rajha hai na aap uske yogya hai hai .
saader
rachana

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

aapki mahaanta ke udaahran...

डॉ. जेन्नी शबनम said...

sach mein bahut khushi hoti hai puraane shikshak se mil kar. main bhi aksar bhagalpur mein apne deppt ke purane shikshak se milti hun. jab hum chhatra hote hain to shikshak ka mahatwa nahin samajhte lekin baad mein jab us sansthaan se nikal jaate hain to sabhi bahut yaad aate hain aur agar dobara mulaakaat ho jaaye to haardik khushi hoti hai. aapke student ke dwara aapko mile samman se behad khushi hui. aapka maan samman yun hin bana rahe. shubhkaamnaayen.

Babli said...

बहुत बढ़िया लगा ! शानदार प्रस्तुती!
मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/

Dr.Bhawna said...

एक शिक्षक क्या चाहता है अपने छात्रों से यही स्नेह यही सम्मान। बहुत अच्छा लगा आपकी छात्रा का पत्र पढ़कर स्नेहासिक्त यह पत्र आपके लिए एक अमूल्य धरोहर है। आप दोनों को बहुत सारी शुभकामनाएँ...