मेरा आँगन

मेरा आँगन

Thursday, October 13, 2011

The Soldier.


Anviksha Srivastava 
class 5th,age   10 years
school : Plainview  Elementary  School,  Ardmore Oklahoma ,        America         

रक्षक फ़ाउण्डेशन  के द्वारा आयोजित  ''गौरव  गाथा '''प्रतियोगिता में १० साल की अन्वीक्षा को  इस कविता के लिए  सांत्वना पुरस्कार मिला है .
नन्ही अन्वीक्षा की कविताएँ और कहानियाँ डैलस की पत्रिका फन एशिया और आर्डमोर के पुस्तकालय की पत्रिका , ऑनलाइन कृत्या और लेखनी  में प्रकाशित होती रहती हैं

The Soldier. 

Anviksha Srivastava 

I walk alone ,
so others
 
can walk with
their father.
Mom puts out
3 plates but,we're
only two.
I celebrate my
holidays alone,
so others
can share
their happiness
together.

I practice sports alone,
so others can practice
with their father
I sleep uncuddled,
so others can
cuddle with their father
everybody listens to the news
in concern
but, I
listen for my father.
I am proud that he is there
 
so the nation can sleep fearless
 
because, my dad is a sold
ier. 
-0-

12 comments:

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

this is simply amazing!!!!

Rachana said...

bahut bahut dhnyavada ki aapne anvi ki poem yahan lagai .is se uska utsah badhega
rachana

Anonymous said...

Anviksha beta aapne bahut sunder aur sahi likha hai. aap bahut achchha likhte ho .aise hi likhte raho.aasha hai aur bhi padane ko milega
Amita Aunty

सहज साहित्य said...

प्रिय बेटी अन्वीक्षा !आपकी कविता बहुत सुन्दर और भावपूर्ण है। आपकी कलम दिन दंई रात चौगुनी उन्नति करे , ऐसी आशा है ।
असीम स्नेह और शु्भकामनाओं के साथ
रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

युग-चेतना said...

I walk alone ,
so others
can walk with
their father.
Mom puts out
3 plates but,we're
only two.
I celebrate my
holidays alone, बिटिया की कलम की धार में बाल मन कि कोमलता के साथ गहरा सामाजिक सरोकार है ... बहुत बधाई ...शुभकामना

Anonymous said...

I am proud that he is there
so the nation can sleep fearless
because, my dad is a soldier...

मै इस नन्ही सी उम्र की इतनी गहराई लिए हुये ऐसी अद्भुत कल्पना और रचनाशीलता से अवाक् हूँ.... अपने ह्रदय के भाव व्यक्त करने लायक शब्द नहीं मिल पा रहे हैं मुझे ... इस छोटी सी बच्ची के ह्रदय में दूसरों के दुःख को महसूस करने का ऐसा ज़ज्बा बस कमाल है...ईश्वर सदा इसको इतना ही सहृदय बनाये रखें... वैसे रचना एक बात कहना चाहूंगी कि .... बड़े मियां तो बड़े मियां छोटे मियां सुभान अल्ला ... अन्वीक्षा को उसकी इस मौसी का ढेर सा प्यार और हार्दिक शुभकामनायें....

Devi Nangrani said...

Dear Avneeksha
Hats off to you for this starating point in the wide world of Poetry.

You walk in the world of words
Never to be alone!

Rachnaji aapki rachnatmak beej ke ankur khob phale phoole isi shubhkamna ke saath
Devi Nangrani

Dr.Bhawna said...

10 saal ki umra men itna gahan chintan itni itni payari abhivayakti aasan baat nahi hai...meri or se bitiya raani ko hajaron aasheees....

Rama said...

I am proud that he is there
so the nation can sleep fearless
because, my dad is a soldier...
प्रिय बेटी अन्वीक्षा ,
हमें तुम पर बहुत गर्व है जो तुमने इतनी छोटी उम्र में इतनी सारगर्भित और मार्मिक कविता इतने सरल शब्दों में लिखी ....बस लिखते रहना ...तुम्हारी कलम में अनेक संभावनाएं है ...बहुत-बहुत प्यार व हार्दिक आशीर्वाद ....
डा. रमा द्विवेदी

डॉ. हरदीप कौर सन्धु said...

प्रिय अन्वीक्षा,
बहुत ही भावपूर्ण कविता लिखी है | नन्ही कलम की सोच उड़ारी बहुत ऊँची है , गहन भाव लिए यह कविता दिल को छू गई ! यह कलम ऐसा ही लिखती रहे .....
शुभकामनाओं के साथ
हरदीप और सुप्रीत

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

Best wishes Anviksha ji ..nice poetry ...truely said ..

listen for my father.
I am proud that he is there
so the nation can sleep fearless
because, my dad is a soldier.

Jay Jawan Jay Kisan...
Bhramar5
Baal Jharokha Satyam ki Duniya
http://surenrashuklabhramar5satyam.blogspot.com

ऋता शेखर 'मधु' said...

Anviksha beta,
mujhe pata hi nahi tha ki aapki poem yahan pr hai.aapne bhut achcha likha hai..bilkul sach...aapko aur aapki mummy ko bhut2 badhai.
rita