मेरा आँगन

मेरा आँगन

Monday, June 18, 2012

स्वागत

1-सुदर्शन रत्नाकर
1
स्वागत शिशु
आगमन तुम्हारा
खुशियाँ लाया ।
2
तेजस्वी बनो,
नाम रोशन करो,
दुआ है मेरी








2- रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
1
तरु हर्षित
उगी नई  कोंपल
शान्त कोमल  ।
-0-











3-कमला निखुर्पा
1
पलकें मूंदे
जगाए है सबको
नन्हा हाइकु |
2
बंद ये  मुट्ठी
खुशियाँ  बिखराए
नन्हा हाइकु |
-0-

5 comments:

vandana said...

नवागत का स्वागत

sushila said...

आपकी बगिया में और हमारी दुनिया में नन्हे प्रसून का स्वागत!
सुंदर हाइकु के साथ.....:)

सहज साहित्य said...

वन्दना जी और सुशीला जी आपकी हार्दिक शुभकामनाओं के लिए कृतज्ञ हूँ ।

सुधाकल्प said...

प्यारे से सलोने से शिशु का दिल से स्वागत !

अब तो नन्हे हायकू का ही जमाना है

-सोयेगा -जागेगा

रोयेगा -मचलेगा

फिर भी

सबको रिझाएगा |

Dr. Sarika Mukesh said...

नवागंतुक को हमारी और से ढेर सारी शुभकामनाएँ एवं स्नेह:-))